मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Thursday, May 15, 2014

मजदूर कभी नींद की गोली नही खाते

हसते हुए माँ-बाप की गाली नहीं खाते
बच्चे है तो क्यो शौक से मिट्ठी नहीं खाते

तुझ से नहीं मिलने का इरादा तो है लेकिन
तुझसे न मिलेंगे ये कसम  भीं नही खाते

सो जाते है फुटपाथ पे अखबार बिछाकर
मजदूर कभी नींद की गोली नही खाते

बच्चे भी गरीबी को समझने लगे शायद
अब जाग भी जाते है तो सहरी नहीं खाते

दावत तो बड़ी चीज़ है हम जैसे कलंदर
हर एक के पैसे की दवा भी नहीं खाते

अल्लाह गरीबो का मददगार है 'राना'
हम लोगो के बच्चे कभी सर्दी नहीं खाते - मुनव्वर राना 

शब्दार्थ :
सहरी = सूरज निकलने से पहले सुबह की अजान होने से पहले किय जाने वाला भोजन। 

Read more: http://www.jakhira.com/2014/05/haste-hue-maa-baap.html#ixzz31l9msUo3