मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Friday, January 17, 2014

651 उर्दू शायरों की सात हजार गजलें

नई दिल्ली। उर्दू शायरी के नाम वेबसाइट 'रेख्ता' ने एक साल में ही लोगों के बीच खास जगह बना ली है। उन लोगों के लिए यह खास है जो उर्दू के ज्यादा जानकार नहीं, मगर उर्दू की मिठास के कायल हैं। शनिवार को रेख्ता की सालगिरह के मौके कई नामी शायर और उर्दू के कद्रदां इकट्ठा हुए। 
'रेख्ता', उर्दू शायरी की एक बड़ी वेबसाइट है। उर्दू से गहरा लगाव रखने वाले उद्योगपति संजीव सराफ इसके फाउंडर हैं। इस जश्न के मौके पर केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद बतौर चीफ गेस्ट मौजूद थे। साथ ही सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया के चेयरमैन यू.के. सिन्हा, फिल्मकार मुजफ्फर अली, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पूर्व वाइस चांसलर सय्यद शाहिद मेहदी, लेखक शम्सुरर्हमान फारूकी, वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नायर, प्रो. शमीम हनफी, उद्योगपति कमल मोरारका, दिल्ली उर्दू अकादमी के चेयरमैन अख्तरउल वासे भी प्रोग्राम में शामिल हुए। 
एक साल पूरे होने के मौके पर वेबसाइट को नया लुक भी दिया गया है। साथ ही, नया कलेक्शन भी अपडेट किया गया है। सादत हसन मंटो के फैंस को यहां उनकी सभी कहानियां मिलेंगी। वेबसाइट में 651 उर्दू शायरों की सात हजार गजलें और नज्में हैं। इस वेबसाइट का सबसे नायाब पहलू यह है कि इसमें उर्दू शायरी को देवनागरी और रोमन लिपियों में भी पेश किया गया है। वेबसाइट को अब तक 154 देशों के करीब ढाई लाख लोग देख चुके हैं।
एक रिपोर्ट साभार
नोट: नई बात यह है कि किसी भी शब्द का अर्थ जानने के लिए बस उस पर क्लिक करना काफ़ी है. देखें-