मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Saturday, February 18, 2012

मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है Death is life

उनके तो दिल से नक़्शे-कुदूरत[1] भी मिट गया।

हम शाद[2] हैं कि दिल में कुदूरत नहीं रही॥

Image

ज़िन्दगी ख़ुद क्या ‘फ़ानी’ यह तो क्या कहिये मगर।

मौत कहते हैं जिसे वो ज़िन्दगी का होश है॥

Image

न दिल के ज़्रर्फ़ को[3] देखो तूर[4] को देखो।

बला की धुन है तुम्हें बिजलियाँ गिराने की॥

Image

कल तक जो तुम से कह न सका हाले-इज़्तराब[5]।

मिलती है आज उसकी ख़बर इज़्तराब से॥

Image

मुद्दआ़ है कि मुद्दआ़ न कहूँ।

पूछते हैं कि मुद्दआ़ क्या है?॥

Image

दुश्मने-जाँ थे तो जाने-मुद्दआ़ क्यों हो गये?

तुम किसी की ज़िन्दगी का आसरा क्यों हो गये?

Image

ज़िन्दगी यादे-दोस्त है यानी--

ज़िन्दगी है तो ग़म में गुज़रेगी॥

Image

शब्दार्थ:

↑ द्वेष भाव
↑ प्रसन्न
↑ पात्रता को
↑ एक पर्वत का नाम
↑ तड़प की खबर

:018:
User avatar
Tanvi
Very Important Person
Very Important Person
Posts: 3702
Joined: Tue Mar 30, 2010 2:15 pm
Location: India
Has thanked: 39 times
Have thanks: 27 times

Re: fanni badayuni sahab ki kuch gazlein va shayari

Postby Tanvi » Fri Dec 17, 2010 4:25 pm

बहार लाई है पैग़ामे-इनक़लाबे-बहार।
समझ रहा हूँ मैं कलियों के मुसकराने को॥

Image

काफ़िर सूरत देख के मुँह से आह निकल ही जाती है।

कहते क्या हो? अब कोई अल्लाह का यूँ भी नाम न लें॥

Image

गो नहीं जुज़-तर्के-हसरत[1] दर्दे-हस्ती का[2] इलाज।

आह! वो बीमार जो आज़ुर्द-ए-परहेज़[3] है॥

Image

अहले-ख़िरद में[4] इश्क़ की रुसवाइयाँ न पूछ।

आने लगी है ज़िक्रे-वफ़ा से हया मुझे॥

Image

यारब! नवाये-दिल से[5] तो कान आशना-से[6] हैं।

आवाज़ आ रही है ये कब की सुनी हुई॥

Image

शब्दार्थ:

↑ अभिलाषाओं के त्याग के अतिरिक्त
↑ जीवन व्यथा का
↑ परहेज़ करते करते दुखी
↑ अक़्लमंदों में
↑ दिल की आवाज़ से
↑ परिचित से



:018:
User avatar
Tanvi
Very Important Person
Very Important Person
Posts: 3702
Joined: Tue Mar 30, 2010 2:15 pm
Location: India
Has thanked: 39 times
Have thanks: 27 times

Re: fanni badayuni sahab ki kuch gazlein va shayari

Postby Tanvi » Fri Dec 17, 2010 4:34 pm

जी ढूँढता है घर कोई दोनों जहाँ से दूर
इस आपकी ज़मीं से अलग, आस्माँ से दूर

शायद मैं दरख़ुर-ए-निगह-ए-गर्म भी नहीं
बिजली तड़प रही है मेरे आशियाँ से दूर

आँखें चुराके आपने अफ़साना कर दिया
जो हाल था ज़बाँ से क़रीब और बयाँ से दूर

ता अर्ज़-ए-शौक़ में न रहे बन्दगी की लाग
इक सज्दा चाहता हूँ तेरी आस्तां से दूर

है मना राह-ए-इश्क़ में दैर-ओ-हरम का होश
यानि कहाँ से पास है मन्ज़िल, कहाँ से दूर

:018:
User avatar
Tanvi
Very Important Person
Very Important Person
Posts: 3702
Joined: Tue Mar 30, 2010 2:15 pm
Location: India
Has thanked: 39 times
Have thanks: 27 times

Re: fanni badayuni sahab ki kuch gazlein va shayari

Postby Tanvi » Fri Dec 17, 2010 4:44 pm

देख 'फ़ानी' वोह तेरी तदबीर की मैयत[1] न हो।
इक जनाज़ा[2] जा रहा है दोश पर[3] तक़दीर के।।
Image
या रब ! तेरी रहमत से मायूस नहीं 'फ़ानी'।
लेकिन तेरी रहमत की ताख़ीर[4] को क्या कहिए।।
Image
हर मुज़दए-निगाहे-ग़लत जलवा ख़ुदफ़रेब।
आलम दलीले गुमरहीए-चश्मोगोश था।।
Image
तजल्लियाते-वहम हैं मुशाहिदाते-आबो-गिल।
करिश्मये-हयात है ख़याल, वोह भी ख़वाब का।।
Image
एक मुअ़म्मा है समझने का न समझाने का।
ज़िन्दगी काहे को है? ख़वाब है दीवाने का।।
Image
है कि 'फ़ानी' नहीं है क्या कहिए।
राज़ है बेनियाज़े-महरमे-राज़।।
Image
हूँ, मगर क्या यह कुछ नहीं मालूम।
मेरी हस्ती है ग़ैब की आवाज़।।
Image
बहला न दिल, न तीरगीये-शामे-ग़म गई।
यह जानता तो आग लगाता न घर को मैं।।
Image
वोह पाये-शौक़ दे कि जहत आश्ना न हो।
पूछूँ न ख़िज़्र से भी कि जाऊँ किधर को मैं।।
Image
याँ मेरे क़दम से है वीराने की आबादी।
वाँ घर में ख़ुदा रक्खे आबाद है वीरानी।।
Image
तामीरे-आशियाँ की हविस का है नाम बर्क़।
जब हमने कोई शाख़ चुनी शाख़ जल गई।।
Image
अपनी तो सारी उम्र ही 'फ़ानी' गुज़ार दी।
इक मर्गे-नागहाँ के ग़मे इन्तज़ार ने।।
Image
'फ़ानी'को या जुनूँ है या तेरी आरज़ू है।
कल नाम लेके तेरा दीवानावार रोया।।
Image
नाला क्या? हाँ इक धुआँ-सा शामे-हिज्र।
बिस्तरे-बीमार से उट्ठा किया।।
Image
आया है बादे-मुद्दत बिछुड़े हुए मिले हैं।
दिल से लिपट-लिपट कर ग़म बार-बार रोया?
Image
नाज़ुक है आज शायद, हालत मरीज़े-ग़म की।
क्या चारागर ने समझा, क्यों बार-बार रोया।।
Image
ग़म के टहोके कुछ हों बला से, आके जगा तो जाते हैं।
हम हैं मगर वो नींद के माते जागते ही सो जाते हैं।।
Image
महबे-तमाशा हूँ मैं या रब! या मदहोशे-तमाशा हूँ।
उसने कब का फेर लिया मुँह अब किसका मुँह तकता हूँ।।
Image
गो हस्ती थी ख़्वाबे-परीशाँ नींद कुछ ऎसी गहरी थी।
चौंक उठे थे हम घबराकर फिर भी आँख न खुलती थी।।
Image
फ़स्ले-गुल आई,या अजल आई, क्यों दरे ज़िन्दाँ खुलता है?
क्या कोई वहशी और आ पहुँचा या कोई क़ैदी छूट गया।।
Image
या कहते थे कुछ कहते, जब उसने कहा-- "कहिए"।
तो चुप हैं कि क्या कहिए, खुलती है ज़बाँ कोई?
Image
दैर में या हरम में गुज़रेगी।
उम्र तेरी ही ग़म में गुज़रेगी।।
Image
देख 'फ़ानी' वोह तेरी तदबीर की मैयत[1] न हो।
इक जनाज़ा[2] जा रहा है दोश पर[3] तक़दीर के।।
Image
या रब ! तेरी रहमत से मायूस नहीं 'फ़ानी'।
लेकिन तेरी रहमत की ताख़ीर[4] को क्या कहिए।।
Image
हर मुज़दए-निगाहे-ग़लत जलवा ख़ुदफ़रेब।
आलम दलीले गुमरहीए-चश्मोगोश था।।
Image
तजल्लियाते-वहम हैं मुशाहिदाते-आबो-गिल।
करिश्मये-हयात है ख़याल, वोह भी ख़वाब का।।
Image
एक मुअ़म्मा है समझने का न समझाने का।
ज़िन्दगी काहे को है? ख़वाब है दीवाने का।।
Image
है कि 'फ़ानी' नहीं है क्या कहिए।
राज़ है बेनियाज़े-महरमे-राज़।।
Image
हूँ, मगर क्या यह कुछ नहीं मालूम।
मेरी हस्ती है ग़ैब की आवाज़।।
Image
बहला न दिल, न तीरगीये-शामे-ग़म गई।
यह जानता तो आग लगाता न घर को मैं।।
Image
वोह पाये-शौक़ दे कि जहत आश्ना न हो।
पूछूँ न ख़िज़्र से भी कि जाऊँ किधर को मैं।।
Image
याँ मेरे क़दम से है वीराने की आबादी।
वाँ घर में ख़ुदा रक्खे आबाद है वीरानी।।
Image
तामीरे-आशियाँ की हविस का है नाम बर्क़।
जब हमने कोई शाख़ चुनी शाख़ जल गई।।
Image
अपनी तो सारी उम्र ही 'फ़ानी' गुज़ार दी।
इक मर्गे-नागहाँ के ग़मे इन्तज़ार ने।।
Image
'फ़ानी'को या जुनूँ है या तेरी आरज़ू है।
कल नाम लेके तेरा दीवानावार रोया।।
Image
नाला क्या? हाँ इक धुआँ-सा शामे-हिज्र।
बिस्तरे-बीमार से उट्ठा किया।।
Image
आया है बादे-मुद्दत बिछुड़े हुए मिले हैं।
दिल से लिपट-लिपट कर ग़म बार-बार रोया?
Image
नाज़ुक है आज शायद, हालत मरीज़े-ग़म की।
क्या चारागर ने समझा, क्यों बार-बार रोया।।
Image
ग़म के टहोके कुछ हों बला से, आके जगा तो जाते हैं।
हम हैं मगर वो नींद के माते जागते ही सो जाते हैं।।
Image
महबे-तमाशा हूँ मैं या रब! या मदहोशे-तमाशा हूँ।
उसने कब का फेर लिया मुँह अब किसका मुँह तकता हूँ।।
Image
गो हस्ती थी ख़्वाबे-परीशाँ नींद कुछ ऎसी गहरी थी।
चौंक उठे थे हम घबराकर फिर भी आँख न खुलती थी।।
Image
फ़स्ले-गुल आई,या अजल आई, क्यों दरे ज़िन्दाँ खुलता है?
क्या कोई वहशी और आ पहुँचा या कोई क़ैदी छूट गया।।
Image
या कहते थे कुछ कहते, जब उसने कहा-- "कहिए"।
तो चुप हैं कि क्या कहिए, खुलती है ज़बाँ कोई?
Image
दैर में या हरम में गुज़रेगी।
उम्र तेरी ही ग़म में गुज़रेगी।।

शब्दार्थ:

↑ अर्थी
↑ शव
↑ कंधे पर
↑ देरी, विलम्ब
:018:
User avatar
Tanvi
Very Important Person
Very Important Person
Posts: 3702
Joined: Tue Mar 30, 2010 2:15 pm
Location: India
Has thanked: 39 times
Have thanks: 27 times

Re: fanni badayuni sahab ki kuch gazlein va shayari

Postby Tanvi » Fri Dec 17, 2010 4:49 pm

करवाँ गुज़रा किया हम रहगुज़र[1] देखा किये
हर क़दम पर नक़्श-ए-पा-ए- राहबर[2] देखा किये

यास जब छाई उम्मीदें हाथ मल कर रह गईं
दिल की नब्ज़ें छुट गयीं और चारागर[3] देखा किये

रुख़[4] मेरी जानिब[5] निगाह-ए-लुत्फ़[6] दुश्मन की तरफ़
यूँ उधर देखा किये गोया[7] इधर देखा किये

दर्द-मंदाने-वफ़ा की हाये रे मजबूरियाँ
दर्दे-दिल देखा न जाता था मगर देखा किये

तू कहाँ थी ऐ अज़ल[8] ! ऐ नामुरादों की मुराद !
मरने वाले राह तेरी उम्र भर देखा किये


शब्दार्थ:

↑ पथ
↑ नेतृत्व करने वाले के पद-चिह्न
↑ उपचारक
↑ चेहरा
↑ ओर्
↑ आनंद-दायक दृष्टि
↑ जैसे कि
↑ मृत्यु
:018:
User avatar
Tanvi
Very Important Person
Very Important Person
Posts: 3702
Joined: Tue Mar 30, 2010 2:15 pm
Location: India
Has thanked: 39 times
Have thanks: 27 times

Re: fanni badayuni sahab ki kuch gazlein va shayari

Postby Tanvi » Fri Dec 17, 2010 4:51 pm

इश्क़ ने दिल में जगह की तो क़ज़ा[1] भी आई
दर्द दुनिया में जब आया तो दवा भी आई

दिल की हस्ती से किया इश्क़ ने आगाह मुझे
दिल जब आया तो धड़कने की सदा भी आई

सदक़े उतारेंगे, असीरान-ए-क़फ़स[2] छूटे हैं
बिजलियाँ लेके नशेमन पे घटा भी आई

हाँ! न था बाब-ए-असर[3] बन्द, मगर क्या कहिये
आह पहुँची थी कि दुश्मन की दुआ भी आई

आप सोचा ही किये, उस से मिलूँ या न मिलूँ
मौत मुश्ताक़ को मिट्टी में मिला भी आई

लो! मसीहा ने भी, अल्लाह ने भी याद किया
आज बीमार को हिचकी भी, क़ज़ा भी आई

देख ये जादा-ए-हस्ती[4] है, सम्भल कर `फ़ानी’
पीछे पीछे वो दबे पावँ क़ज़ा भी आई

शब्दार्थ:

↑ मृत्यु
↑ कैदखाने के पुराने कैदी
↑ असर की दरवाजा
↑ ज़िन्दगी की राह

:018:
User avatar
Source : http://www.theshayari.com/general-shayari-f5/topic2358.html#p7605