मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Monday, August 13, 2012

तिरंगा शान है अपनी ,फ़लक पर आज फहराए ,


Flag Foundation Of India  Flag Foundation Of India 
तिरंगा 
शान है अपनी ,फ़लक पर आज फहराए ,
फतह की ये है निशानी ,फ़लक पर आज फहराए .

रहे महफूज़ अपना देश ,साये में सदा इसके ,
मुस्तकिल पाए बुलंदी फ़लक पर आज फहराए .

मिली जो आज़ादी हमको ,शरीक़ उसमे है ये भी,
शाकिर हम सभी इसके फ़लक पर आज फहराए .

क़सम खाई तले इसके ,भगा देंगे फिरंगी को ,
इरादों को दी मज़बूती फ़लक पर आज फहराए .

शाहिद ये गुलामी का ,शाहिद ये फ़राखी का ,
हमसफ़र फिल हकीक़त में ,फ़लक पर आज फहराए .

वज़ूद मुल्क का अपने ,हशमत है ये हम सबका ,
पायतख्त की ये लताफत फ़लक पर आज फहराए .

दुनिया सिर झुकाती है रसूख देख कर इसका ,
ख्वाहिश ''शालिनी''की ये फ़लक पर आज फहराए .

         शालिनी कौशिक [कौशल]

एक निवेदन सभी महिला ब्लोग्गर्स  से-आपको शिखा कौशिक  के एक नए ब्लॉग ''WORLD'sWOMAN BLOGGERS ASSOCIATION -JOIN THIS NOW  ''का लिंक दे रही हूँ यहाँ जुड़ें और महिला शक्ति को संगृहीत होने का सुअवसर दें.
             आभार 
           शालिनी कौशिक 





3 comments:

Kunwar Kusumesh said...

देश प्रेम से ओत-प्रोत .
बहुत सुन्दर.

DR. ANWER JAMAL said...

65 वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई-शुभकामनायें.
वाकई आपकी चिंताएं वाजिब हैं .
इस यौमे आज़ादी पर हमने हिंदी पाठकों को फिर से ध्यान दिलाया है.

देखिये-
http://hbfint.blogspot.com/2012/08/65-swtantrta-diwas.html

प्रेम सरोवर said...

प्रसंशनीय..। मेरी कामना है कि आप अहर्निश सृजनरत रहें । राही मासूम रजा की एक सुंदर कविता पढ़ने के लिए आपका मेरे पोस्ट पर आमंत्रण है ।