मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Wednesday, August 10, 2011

जीवन का दर्शन -Dr. Shama Khan

तन्हा होने पर ये जीवन का दर्शन समझ  मे  आता है .
 मै क्या  हूँ , वो क्या है  फ़लसफ़ा  समझ  मै आता  है .
                   जब  रिश्तो  म़े बढ़ जाती  है  दूरिया,
                   हर ओर  छा जाती  है  ख्मोशिया
                    जब हर  पल  मन हो जाता  है  बैचन,
                      बार बार  लहेरो  से जूझ  कर भी ,
              किनारे  खड़ा  पाता है मन .
                                            ये  आदमी  की  फितरत  है  शायद
                                          टूटते  रहने पर भी  नित  नये रिश्ते  बनाता है
                                           धोखा  खा , हाथ  झाड़कर  खड़े  हो जाता  है
                        एक  ओर  रिश्ता बनाने को ,आगे कदम बढाता है .
  क्या  खोया है ,क्या  पाया है  का  समीकरन  मन  बैठाता है ,
कहा लूटा  है ,कंहा लुटा, सोच  मन पछताता  है .
कण -कण म़े ,हर  धड़कन  मे, फिर  भी तलाशता  रहता  है मन
माँ  के  आंचल  मे ,दोस्त  की  अठखली मे ,बेटी  के अपनेपन  मे ,
प्रेमी के सपनों मे ,जीवन का हर पल जीता है . 

3 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

जीवन का मर्म बताने वाली रचना के लिए शुभकामनाएँ!

Kunwar Kusumesh said...

पूरी रचना का सार शमा जी की कविता की ही निम्न पंक्तियों में छुपा हुआ है:-
"ये आदमी की फितरत है शायद"

DR. ANWER JAMAL said...

Nice poem.