मुशायरा::: नॉन-स्टॉप

Thursday, April 14, 2011

रहबर

जो टेक दे घुटने दुश्मन के सामने
वो बादशाह अवाम  का रहबर नहीं होता .
                                      शिखा कौशिक

2 comments:

शालिनी कौशिक said...

shikha ji aapki shayri lajawab hai..

DR. ANWER JAMAL said...

बहुत खूब कहा और सच कहा.
आवाम के बजाय अवाम लिखा जाए ,
अर्थ है प्रजा .

Most Welcome.